ALL National World Madhy Pradesh Education / Employment Entertainment Sports Article Business
कला, संस्कृति के साथ समृद्धि के द्वार खोलने के साथ मध्यप्रदेश की वैश्विक साख स्थापित करेगा: आइफा
February 4, 2020 • Admin

हिंदी सिनेमा की इंद्रधनुषी दुनिया को हिंदुस्तान की कला, संस्कृति, संस्कारों और साहित्य का प्रतिबिंब माना जाता है। फिल्म जगत की हस्तियों ने एक बार ये मानस बनाया कि भारत के गौरवशाली इतिहास और सुनहरे भविष्य को हर हाल में विश्वभर में रेखांकित किया जाना चाहिए, ताकि भारत की साख को दुनिया में स्थापित किया जा सके और ये महती जिम्मेदारी आईफा को सौंपी गई।

नई सदी 2000 में अवार्ड की बुनियाद यूनाइटेड किंगडम के लंदन शहर में रखी गई। आयोजन इतना सफल रहा कि पूरे ब्रिटेन ने एक स्वर में भारत को कहा ‘हम दिल दे चुके सनम’ और यही वह पहली फिल्म भी थी जिसे सर्वश्रेष्ठ फिल्म का पुरस्कार मिला।

लंदन आइफा सफलता की अनुगूँज से कई देशों ने आइफा आयोजन के लिए अपनी अभिरुचि जाहिर की। दूसरा अवार्ड फंक्शन अफ्रीका के सनसिटी में आयोजित किया गया। फिर मलेशिया, सिंगापुर, नीदरलैंड, दुबई, थाईलैंड, मकाऊ, श्रीलंका, यूएस, स्पेन, थाईलैंड, अर्थात् देश दर देश भारत की ख्याति विश्वभर में फैलती गई।

आइफा का सामाजिक सरोकार

ब्रिटेन के यार्कशायर में रह रहे साउथ एशियन समुदाय के सामाजिक और सांस्कृतिक सरोकारों के दृष्टिगत ब्रिटेन की सरकार ने पुनः आइफा को आमंत्रित किया और 2007 में यार्कशायर के शेफील्ड में 3 दिन चले आइफा के उत्साहवर्धक आयोजन ने हमेशा के लिए वहाँ के नागरिकों में समरसता का भाव पैदा किया। इतना ही नहीं इस आयोजन से समूचे विश्व में यार्कशायर की पहचान और साख स्थापित हुई और वह ब्रिटेन का टूरिज्म का बड़ा केन्‍द्र बनकर उभरा। इस आयोजन के बाद आज तक भी यार्कशायर में भारतीय सिनेमा, उत्सवों और संस्कृति को उत्साहपूर्वक आत्मसात किया जाता है।