ALL National World Madhy Pradesh Education / Employment Entertainment Sports Article Business
कोरोना संकट : क्रूड में 1991 के बाद सबसे बड़ी गिरावट, सोने में खासी उठापटक
March 9, 2020 • Admin • Business

कच्चे तेल ने दुनिया भर में कोहराम मचाया दिया है। कोरोना संकट के साथ ओपेक और रूस में उत्पादन कटौती पर सहमति ना बनने से ब्रेंट में 30 फीसदी की गिरावट हुई है जो 1991 के बाद सबसे बड़ी गिरावट है। उत्पादन कटौती पर सहमति ना बनने के बाद सऊदी अरब और रूस में प्राइस वॉर छिड़ गया है क्रूड ही नहीं बाकी बाजारों में भी भारी गिरावट देखने को मिल रही है। अब बड़ा सवाल ये है कि क्या क्रूड इन स्तरों से संभलेगा या 20 डॉलर की तरफ फिसलेगा, जिसकी कई लोग अब बात करने लगें हैं। अगर क्रूड को सपोर्ट मिलेगा तो कहां से इसी पर आज बात करेंगे।

कच्चे तेल में प्राइस वॉर के चलते ब्रेंट में करीब 30 फीसदी की गिरावट नजर आ रहा और ये 32 डॉलर के करीब आ गया है। कच्चे तेल में 1991 के बाद सबसे बड़ी गिरावट देखने को मिल रही है। क्रूड फरवरी, 2016 के बाद सबसे निचले स्तर पर दिख रहा है। रूस ने उत्पादन में ज्यादा कटौती से इंकार कर दिया है। बता दें कि OPEC ने 15 लाख bpd और कटौती का प्रस्ताव दिया था। सऊदी अरब और रूस में मार्केट शेयर की लड़ाई हो रही है। सऊदी अरब ने क्रूड पर 20 फीसदी तक डिस्काउंट दिया है। स. अरब अप्रैल में 10 mbpd से ज्यादा उत्पादन करेगा। सऊदी अरब का मौजूदा उत्पादन 9.7 mbpd। रूस ने कहा है कि उत्पादन कोटा की परवाह नहीं करेंगे।

Goldman Sachs का कहना है कि ब्रेंट आगे 20 डॉलर तक फिसल सकता है। स. अरब 80 डॉलर के भाव पर ही बजट बैलेंस कर सकता है। वहीं, रूस 40 डॉलर के भाव पर भी बजट बैलेंस कर सकता है। 50 डॉलर के भाव पर US उत्पादन में भी कमी आने लगती है।

उधर सोने में आज खासी उठापटक देखने को मिल रही है। कॉमेक्स पर सोना 1700 डॉलर तक जाने के बाद ऊपरी स्तर से करीब 30 डॉलर टूट चुका है। वहीं MCX पर भी सोने के दाम 44 हजार से नीचे फिसल गए हैं।